Sunday, November 24, 2019

राजस्थान के एक मंदिर मे आज भी होता है चमत्कार

मित्रो जहाँ कलियुग मे लोग चमत्कार की आशा मे ठगे जाते है वही एक मंदिर है जो, राजस्थान के चित्तौड़गढ़ ज़िला मुख्यालय से 9 किमी दूर माताजी की  पांडोली स्थित देवी श्री झांतला माता जी की एक प्रमुख शक्तिपीठ है ।

यहाँ  आने वाले हर श्रद्धालु की मनोकामनायें पूरी होती है। यहाँ विशेषकर लकवाग्रस्त लोगो को लाया जाता है।  मान्यता है की माँ के आशीर्वाद से लकवाग्रस्त रोगी भले चंगे होकर घर लौटते है । जो रोगी के रूप में सोते या बैठे हुए आते है वे हँसते हुए जाते है । इस मूर्ति को चमत्कारिक माना  जाता है जिसके  दर्शन मात्र से ही सारी पीड़ाये दूर ही जाती है और मन को सुकून मिलता है ।
ओर कही हजारों किलोमीटर दुर रहने वाला आदमी अगर लकवाग्रस्त हो जाये तो इनके नाम का धांगा (जिसको तांती भी बोली जाती है ) बांध ले तो उसको उसी दिन से फर्क पडना शुरू हो जाता है,,
पर मित्रो चमत्कार भी वहाँ होता है जहाँ विश्वास ओर आस्था हो,,
देवी श्री झांतला माता ,माताजी की पांडोली चित्तौड़गढ़
श्री झांतला माता ,माताजी की पांडोली चित्तौड़गढ़

बताते है की देवी श्री झांतला माता जी की मूर्ति यहाँ महाभारत काल से ही है । इस शक्तिपीठ पर हर साल  लाखो श्रद्धालु अपनी- अपनी मन्नत ले के आते है । यहाँ हर साल दोनों नवरात्रा में नौ ही दिन मेले का आयोजन किया जाता है । वास्तव में माँ की महिमा का जितना गुणगान  किया जाये उतना ही कम है ,क्या लिखे उस माँ के बारे मे जो अंधो को भी आंखें, ओर बीमार को शरीर, ओर पाँव देती है,, एक बार दर्शन जरूर करे ओर कलियुग मे माँ का चमत्कार जरूर देखे
जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश

No comments:

Post a Comment

#तंत्र #मंत्र #यंत्र #tantra #mantra #Yantra
यदि आपको वेब्सायट या ब्लॉग बनवानी हो तो हमें WhatsApp 9829026579 करे, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई उसके लिए ओर ब्लाँग पर विजिट के लिए धन्यवाद, जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🙏🏻🌹

नवरात्रि मे कब से है ओर क्या करे नवरात्रि मे

मित्रो 25 मार्च से यानी चैत्र नवरात्रि के दिन से हिंदी का नव वर्ष शुरू होने जा रहा है हिंदू यानि सत्य सनातन धर्म नववर्ष के पहले दिन को नव स...

DMCA.com Protection Status