Friday, June 26, 2015

रोग से छुटकारा पाने के लिए

रोग से छुटकारा पाने के लिए

किसी रोग से ग्रसित होने पर 

 
सोते समय अपना सिरहाना पूर्व की ओर रखें ! अपने सोने के कमरे में एक कटोरी मेंसेंधा नमक के कुछ टुकडे रखें ! सेहत ठीक रहेगी !एक रुपये का सिक्का रात को सिरहाने में रख कर सोएं और सुबह उठकर उसे श्मशान केआसपास फेंक देंरोग से मुक्ति मिल जाएगी।

                        
लगातार बुखार आने पर
यदि किसी को लगातार बुखार  रहा हो और कोई भी दवा असर  कर रही हो तो आककी जड लेकर उसे किसी कपडे में कस कर बांध लें ! फिर उस कपडे को रोगी के कान सेबांध दें ! बुखार उतर जायगा !



 
बच्चे के उत्तम स्वास्थ्य  दीर्घायु के लिए
एक काला रेशमी डोरा लें ! “ऊं नमोः भगवते वासुदेवाय नमः” का जाप करते हुए उस डोरेमें थोडी थोडी दूरी पर सात गांठें लगायें ! उस डोरे को बच्चे के गले या कमर में बांध दें !प्रत्येक मंगलवार को बच्चे के सिर पर से कच्चा दूध 11 बार वार कर किसी जंगली कुत्तेको शाम के समय पिला दें ! बच्चा दीर्घायु होगा !यदि किसी को टायफाईड हो गया हो तो उसे प्रतिदिन एक नारियल पानी पिलायें ! कुछही दिनों में आराम हो जायगा !सिन्दूर लगे हनुमान जी की मूर्ति का सिन्दूर लेकर सीता जी के चरणों में लगाएँ। फिरमाता सीता से एक श्वास में अपनी कामना निवेदित कर भक्ति पूर्वक प्रणाम कर वापस जाएँ। इस प्रकार कुछ दिन करने पर सभी प्रकार की बाधाओं का निवारण होता है।
रोगी को ठीक करने के लिए - कृष्ण पक्ष में अमावस्या की रात को 12 बजे नहा-धोकरनीले रंग के वस्त्र ग्रहण करें। आसन पर नीला कपड़ा बिछाकर पूर्व की ओर मुख करकेबैठे। इसके पश्चात चौमुखी दीपक (चार मुँह वाला जलाएँ। (निम्न सामग्री पहले सेइकट्ठी करके रख लेंनीला कपड़ा सवा गज दृ 4 मीटर चौमुखी दिए 40 नगमिट्टी कीगड़वी 1 नगसफेद कुशासन(कुश का आसन) 1 नगबत्तियाँ 51 नगछोटी इलायची 11दानेछुहारे (खारक) 5 नगएक नीले कपड़े का रूमालदियासलाईलौंग 11 दानेतेलसरसों 1 किलो इत्र  शीशी गुलाब के फूल 5 नगगेरू का टुकड़ा, 1 लडडू और लड्डू केटुकड़े 11 नग।
विधि - नीले कपड़े के चारों कोने में लड्डूलौंगइलायची एवं छुहारे बाँध लेंफिर मिट्टीके बर्तन में पानी भरकरगुलाब के फूल भी वहाँ रख लें। फिर नीचे लिखा मंत्र पढ़ें। मंत्रपढ़ते समय लोहे की चीज (दियासलाईसे अपने चारों ओर लकीर खींच लें।
मंत्र इस प्रकार है।
ऊँ अनुरागिनी मैथन प्रिये स्वाहा।
शुक्लपक्षेजपे धावन्ताव दृश्यते जपेत्।।
यह मंत्र चालीस दिन लगातार पढ़ें, (सवा लाख बारसुबह उठकर नदी के पानी में अपनीछाया को देखें। जब मंत्र संपूर्ण हो जाएँ तो सारी सामग्री (नीले कपड़े सहितपानी में बहादें।
अब जिसको आप अपने वश में करना चाहते हैं अथवा जिस किसी रोगी का इलाज करनाचाहते हैंउसका नाम लेकर इस मंत्र को 1100 बार पढ़ेंबस आपका काम हो जाएगा।
यदि घर के छोटे बच्चे पीड़ित होंतो मोर पंख को पूरा जलाकर उसकी राख बना लें औरउस राख से बच्चे को नियमित रूप से तिलक लगाएं तथा थोड़ी-सी राख चटा दें।
यदि बीमारी का पता नहीं चल पा रहा हो और व्यक्ति स्वस्थ भी नहीं हो पा रहा होतोसात प्रकार के अनाज एक-एक मुट्ठी लेकर पानी में उबाल कर छान लें। छने  उबलेअनाज (बाकलेमें एक तोला सिंदूर की पुड़िया और ५० ग्राम तिल का तेल डाल करकीकर (देसी बबूलकी जड़ में डालें या किसी भी रविवार को दोपहर १२ बजे भैरव स्थलपर चढ़ा दें।
बदन दर्द होतो मंगलवार को हनुमान जी के चरणों में सिक्का चढ़ाकर उसमें लगी सिंदूरका तिलक करें।
पानी पीते समय यदि गिलास में पानी बच जाएतो उसे अनादर के साथ फेंकें नहीं,गिलास में ही रहने दें। फेंकने से मानसिक अशांति होगी क्योंकि पानी चंद्रमा का कारकहै।

No comments:

Post a Comment

#तंत्र #मंत्र #यंत्र #tantra #mantra #Yantra
यदि आपको वेब्सायट या ब्लॉग बनवानी हो तो हमें WhatsApp 9829026579 करे, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई उसके लिए ओर ब्लाँग पर विजिट के लिए धन्यवाद, जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🙏🏻🌹

बाबा हनुमान जी चालीसा

श्री हनुमान चालीसा हिंदी में अनुवाद सहित  ॐ हं हनमंते रूद्रात्मकाय हुं फट्  इस मंत्र का चालीसा शुरू करने ओर पुणेयता पर जपना चाहिए,   दोहा श्...

DMCA.com Protection Status