Wednesday, July 1, 2015

वशीकरण का अनूठा प्रयोग

वशीकरण का अनूठा प्रयोग

मन्त्रः-
“जति हनुमन्ता, जाय मरघट । पिण्ड का कोन है शोर, छत्तीमय बन पड़े । जेही दश मोहुँ, तेही दश मोहुँ । गुरु की शक्ति, मेरी भक्ति । फुरो मन्त्र, ईश्वरो वाचा ।”


विधिः- शनिवार के दिन हनुमान जी का विधि-वत् पूजन करें । ‘सुखडी’ का नैवेद्य चढ़ाएं । ‘सुखड़ी’ गेहूँ के आटे, गुड़ व घृत से बनती है । नैवेद्य अर्पित कर उक्त मन्त्र का १५०० ‘जप’ करें । ८ दिनों तक या शनिवार तक जप करें । इससे मन्त्र की सिद्धि होगी । फिर नित्य निश्चित संख्या में ‘जप’ करता रहे । इससे मन्त्र चैतन्य रहेगा ।
बाद में जब आवश्यकता हो, तो चौराहे की मिट्टी ७ चुटकी या ७ कंकड़ लाएं और घर में ही रखकर प्रत्येक के ऊपर २५०-२५० बार उक्त मन्त्र जप कर अभिमन्त्रित करें । फिर मिट्टी या कंकड़ी को ऐसे जलाशय में या कुएँ में या तालाब में डाले, जहाँ से पूरे गाँव को या मुहल्ले को जल वितरित होता हो । जल का पान करने वाले लोगों का वशीकरण होगा ।
इस प्रकार के प्रयोग छोटे गाँव के ऊपर करने से ही ठीक परिणाम मिलता है । इसके अतिरिक्त साधक-बन्धु अन्य परिवर्तन स्व-सूझ-बूझ से कर सकते हैं 

No comments:

Post a Comment

#तंत्र #मंत्र #यंत्र #tantra #mantra #Yantra
यदि आपको वेब्सायट या ब्लॉग बनवानी हो तो हमें WhatsApp 9829026579 करे, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई उसके लिए ओर ब्लाँग पर विजिट के लिए धन्यवाद, जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🙏🏻🌹

बाबा हनुमान जी चालीसा

श्री हनुमान चालीसा हिंदी में अनुवाद सहित  ॐ हं हनमंते रूद्रात्मकाय हुं फट्  इस मंत्र का चालीसा शुरू करने ओर पुणेयता पर जपना चाहिए,   दोहा श्...

DMCA.com Protection Status