Thursday, February 24, 2022

महाशिवरात्रि के उपाय क्या क्या करे भाग 5

महाशिवरात्रि के उपाय क्या क्या करे भाग 5।   


जय मां बाबा की मित्रों नादान बालक की तरह से आप सभी को जय मां बाबा की मित्रों आने वाली महाशिवरात्रि पर हम सभी से कोई चुक ना रहे जितने उपाय है या जितना हमे याद है वो हम यहां दे रहे हैं तो कभी कभी कुछ उपाय रिपीट भी हो जाते हैं और कहीं लिखने में चुक हो ही जाती है शंका समाधान के लिए आप हमें कोल कर सकते हैं या तंत्र निवारण के लिए भी आप हमसे बात कर सकते हैं हमारी सभी आध्यात्मिक सेवाएं निःशुल्क है चिंता ना करें जो करना है वो मां बाबा ने करना है  ,
भगवान शिव को महाशिवरात्रि पर रोली, मौली, साबुत चावल, लौंग, इलायची, सुपारी, जायफल, हल्दी, केसर, पंचमेवा, मौसमी फल, नागकेसर जनेऊ, कमलगट्टा, सप्तधान्य, सफेद मिठाई, नारियल, कुशा, अबीर, चन्दन, गुलाब, इत्र, पंचामृत, कच्चा दूध, बेलपत्र, बेल का फल, गुलाब के फूल, आक धतूरा, भांग, धूप दीप आदि अर्पण करें. मित्रों ये दो मंत्र याद रखें हमेशा मां बाबा की पुजा करते वक्त ,,
हुए ॐ नम: शिवाय  और ॐ पार्वतीपतये नमः यह मंत्र हर पुजा में प्रयोग लिया जा सकता है ,,
शिवरात्रि के दिन आटे से 11 शिवलिंग बनाएं व 11 बार इनका जलाभिषेक करें। इस उपाय से संतान प्राप्ति के योग बनते हैं ,शिवरात्रि पर घर में पारद के शिवलिंग की स्थापना योग्य ब्राह्मण से सलाह कर स्थापना कर प्रतिदिन पूजन कर सकते हैं। इससे आमदनी बढ़ने के योग बनते हैं ,महाशिवरात्रि के दिन घर में स्फटिक का शिवलिंग लाकर स्थापित करें और नियमित इसकी पूजा करें तो घर से सारे नकारात्मक प्रभाव दूर जाएंगे। इससे धन और सुख में आने वाली बाधा दूर होगी, वास्तुशास्त्र में स्फटिक शिवलिंग को वास्तुदोष से मुक्ति प्रदान करने वाला बताया गया है। जिस घर में यह शिवलिंग होता है उस घर में किसी प्रकार के वास्तुदोष का अशुभ प्रभाव नहीं होता है, बुरी नजर से रक्षा करता है त्रिशूल - कहा जाता है शिव जी का त्रिशूल शांत मन प्रदान करता है और घर में त्रिशूल के रखने से परिवार को कभी किसी की नजर नहीं लगती। इसी के साथ घर में जन्मी नई संतान के को बुरी नजर से बचाने के लिए पवित्र शिवरात्रि के दिन उसके ग्ले में त्रिशूल बांध सकते हैं। कहते हैं ऐसा करने से बच्चे को किसी की बुरी नजर नहीं लगती, डमरू से बढ़ती है एकाग्रता - डमरू को शास्त्रों में विशेष स्थान मिला है और वास्तु से लेकर ज्योतिष शास्त्र में इसे बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसी मान्यता है कि डमरु को घर में रखने से किसी भी तरह की नेगेटिव एनर्जी घर में प्रवेश नहीं करती ,नाग करेगा मुश्किलें खत्म - जीवन में आ रहीं लगातार मुश्किलें हटानी है तो महाशिवरात्रि के दिन शिव जी के मंदिर जाकर गले में नाग वाला लॉकेट पहन लें। कहते हैं इस शुभ दिन घर पर भी पूजा भी करनी चाहिए ,बेलपत्र - आप सभी जानते ही होंगे भोलेनाथ की पूजा बेलपत्र के बिना अधूरी है। ऐसे में अगर घर में शिव का मंदिर बना हुआ है तो रोजाना उन्हें बेलपत्र चढ़ाने से घर में दरिद्रता नहीं आती है और मन शांत रहता है ,कच्चा दूध - कहते हैं शिवरात्रि के दिन अपने ग्ले में रुद्राक्ष धारण किया जाना चाहिए लेकिन उससे पहले उसे एक बार कच्चे दूध के साथ जरुर धो लें, इससे आपको बड़ा लाभ होगा, शिवरात्रि पर रात में किसी शिव मंदिर में दीपक जलाएं। शिवपुराण के अनुसार कुबेर देव ने पूर्व जन्म में रात के समय शिवलिंग के पास रोशनी की थी। इसी वजह से अगले जन्म में वे देवताओं के कोषाध्यक्ष बने।
महाशिवरात्रि पर छोटा सा पारद (पारा) शिवलिंग लेकर आएं और घर के मंदिर में इसे स्थापित करें। शिवरात्रि से शुरू करके रोज़ इसकी पूजा करें। इस उपाय से घर की दरिद्रता दूर होती है और लक्ष्मी कृपा बनी रहती है ,बाबा हनुमानजी भगववान शिव के ही अंशावतार माने गए हैं शिवरात्रि पर हनुमान चालीस का पाठ करने से हनुमानजी और शिवजी की प्रसन्नता प्राप्त होती हैं। इनकी कृपा से भक्त की सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं, देवीयो किसी सुहागिन को सुहाग का सामान उपहार में दें। जो लोग यह उपाय करते हैं, उनके वैवाहिक जीवन की समस्याएं दूर हो सकती हैं। सुहाग का सामान जैसे- लाल साडी, लाल चूड़ियां, कुमकुम आदि शिवरात्रि पर किसी बिल्व वृक्ष के नीचे खड़े होकर खीर और घी का दान करते हैं, उन्हें महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है। ऐसे लोग जीवनभर सुख-सुविधाएं प्राप्त करते हैं और कार्यों में सफल होते हैं महाशिवरात्रि पर किसी जरूरतमंद व्यक्ति को अनाज और धन का दान करें। शास्त्रों में बताया गया है कि
गरीबों को दान करने से पुराने सभी पापो का असर खत्म हो सकता है और अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है जल दुध पंचामृत चढ़ाते समय शिवलिंग को हथेलियों से रगड़ना चाहिए। इस उपाय से किसी की भी किस्मत बदल सकती हैं जल में केसर मिलाएं और ये जल शिवलिंग पर चढ़ाएं। इस उपाय से विवाह और वैवाहिक जीवन से जुडी समस्याएं खत्म होती हैं ,यदि आप लंबी उम्र चाहते हैं तो शिवलिंग पर रोज़ दूर्वा चढ़ाएं। इससे शिवजी और गणेशजी की कृपा से सुख-समृद्धि भी बढ़ती हैं नादान बालक की कलम से अभी इतना बाकी अगली पोस्ट में राशिफल अनुसार कैसे करे पुजा जप नियम ,चावल पकाएं और उन चावलों से शिवलिंग का श्रृंगार करें। इसके बाद पूजा करें। इससे मंगलदोष शांत होते हैं समय-समय पर शिवजी के निमित सवा किलो या सवा पांच किलो या 11 किलो या 21 किलो गेहूं या चावल का दान करें शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय काले तिल मिलाएं। इस उपाय से शनि दोष और रोग दूर होते हैं बीमारियों के कारण परेशानियां खत्म ही नहीं हो रही हैं तो पानी में दूध और काले तिल मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। ये उपाय रोज़ करें मनचाही गाडी चाहते हैं तो शिवलिंग पर रोज़ चमेली के फूल चढ़ाएं और शिव मंत्र (ॐ नमः शिवाय) का जप 108 बार रोज़ करें।11 बिल्वपत्रों पर चंदन से ॐ नमः शिवाय या श्रीराम लिखें। इसके बाद इन पत्तों की माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं।शिवलिंग पर रोज़ धतूरा चढाने से घर और संतान से जुडी समस्याएं दूर होती हैं। ये उपाय संतान को सभी कार्यों में सफलता दिलवाता है।नियमित रूप से आंकड़े के फूलों की माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ातेलक्ष्मी की स्थायी कृपा पाना चाहते हैं तो शिवलिंग पर रोज़ चावल चढ़ाएं। चावल पूरे यानी अखंडित होने चाहिए महाशिवरात्रि के दिन शिव का अभिषेक करने के बाद जलढ़री का जल घर ले आएं. इसके बाद 'ॐ नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च'। यह मंत्र को बोलते हुए पूरे घर में इस पवित्र जल का छिड़काव करें। ऐसा करने से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाएगी और घर-परिवार में खुशहाली बनी रहेगी ,अगर बराबर घर में आपसी कलह-क्लेश, रोग या अन्य समस्याएं हैं तो उसे दूर करने के लिए घर के उत्तर-पूर्व दिशा में रूद्राभिषेक करना शुभ होता है भले ही कोई व्यक्ति वर्ष भर में कोई व्रत नहीं रखता हो, लेकिन युगों युगों से यह मान्यता रही है कि फाल्गुन महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर महाशिवरात्री के दिन जो भी भक्त सच्चे दिल से भगवान भोलेनाथ की आराधना हेतु उपवास रखता है तो उसे मात्र महाशिवरात्रि के व्रत रखने से वर्ष भर के सभी व्रतों का फल मिल जाता है। अतः भगवान शिव पर विश्वास रखने वाला प्रत्येक व्यक्ति इस दिन उपवास कर भगवान भोलेनाथ का पूजन करता है ,इस दिन गरीबों, असहाय, दीन दुखियों को भोजन कराने वालों पर भगवान भोलेनाथ अत्यंत प्रसन्न होते हैं। माना जाता है ऐसा करने से घर में कभी भी भोजन की कमी नहीं रहती, और पितरों की भी आत्मा को सुकून मिलता है, जल में कुछ तिल डालकर शिवलिंग का जलाभिषेक करें और मन ही मन ॐ नमः शिवाय का उच्चारण करें इससे मन को असीम शांति मिलती है ,इस दिन माना जाता है घरों में आटे के 11 शिवलिंग बनाने चाहिए और उन 11 शिवलिंगों में जलाभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने पर घर में संतान प्राप्ति के योग में वृद्धि होती है ,शिवरात्रि के मौके पर भगवान शिव के वाहन नंदी बैल को हरा चारा खिलाने से घर में सुख शांति समृद्धि आती है। अतः आप शिवरात्रि के दिन ये उपाय भी अपना सकते हैं  मान्यता है इस दिन भगवान शिव को तिल और जौ जरूर अर्पित करने चाहिए। तिल से जहां कष्टों से मुक्ति मिलती है, वही जौ से घर में सुख समृद्धि आती है ,महाशिवरात्रि के मौके पर 101 बार शिवलिंग का जलाभिषेक करें। चाय के दौरान ॐ हौं जूं सः, ॐ भूर्भुवः स्वः जैसे मंत्रों का जाप करते रहें। ऐसा करने पर रोगी की बीमारी दूर होने में मदद मिलती है ,साथ ही इस दिन बिल्वपत्र यानी बेल की पत्तियों पर चंदन से ओम नमः शिवाय लिखकर भगवान शिव को अर्पित करने से भगवान बेहद प्रसन्न होते हैं। इससे आपकी मनोकामनाएं पूर्ण हो सकती हैं ,अगर काफी कोशिशों के बावजूद भी विवाह के लिए सही वर या वधु नहीं मिल रहा है। तो इस बाधा को दूर करने हेतु आप शिवलिंग दूध में केसर डालकर भगवान शिव को अर्पित कर सकते हैं। ऐसा करने से जल्दी ही विवाह के योग बनते हैं  शिवरात्रि के मौके पर मछलियों को आटे की गोलियां खिलाना भी शुभ माना जाता है, इस प्रक्रिया के दौरान आप भगवान शिव का ध्यान करते हैं तो धन की प्राप्ति होने के अवसर बढ़ते हैं ,कर्ज मुक्ति मंत्र शिवजी के साथ देवराज इंद्र का पूजन करें।
रुद्र सूक्त का पाठ करें, तिल में घी, गुरूच, चावल, शक्कर मिलाकर शाम को हवन करें तिल मिश्रित खीर का भोग लगाकर भक्तों में बाटें, नमक, लोहा, तेल, उड़द, सोंठ, काली मिर्च, फल, सफेद चंदन का दान जरूर करें ,पान चढ़ाने से कर्ज से आपको मुक्ति जरूर मिलेगी, जल में इत्र मिलाकर भगवन शिव का अभिषेक करें,, केलाअनार अर्पित करें ,दही से भगवान शिव का अभिषेक करें, दही युक्त भोजन ग्रहण करें हो सके तो ब्राह्मण स्त्री को सुहाग सामग्री आप भेट भेंट करें,
शिवरात्रि के दिन सुबह के समय भगवान शिव को दूध मिश्री मिला जल अर्पित करें ,इसकी एक धारा लगातार शिवलिंग पर चढ़ाते रहें , उस समय नमः शिवाय या "शिव - शिव" का मन ही मन जाप करें ,शिव लिंग से स्पर्श कराके पांच-मुखी रुद्राक्ष कण्ठ में लाल धागे में धारण करें ,मिट्टी के दीए में गाय का घी भरकर उसमें कलावे की चार बाती लगाएं और उसमें कपूर रखकर जलाएं. उसके बाद भगवान शिव को जल में चावल दूध मिश्री आदि मिलाकर अर्पण करें ,मंदिर में ही "नमः शिवाय" का यथाशक्ति जाप करें ,शिवजी से अच्छे स्वास्थ्य तथा लम्बी आयु की प्रार्थना करें, शिवरात्रि के दिन चांदी के लोटे द्वारा जलधारा से भगवान शिव का अभिषेक करें ,उस समय मन ही मन "नमः शिवाय" कहते जाएं, भगवान शिव को सफेद फूल दोनों हाथों से अर्पण करते समय रोजगार प्राप्ति की प्रार्थना करें ,संध्याकाल को शिव मंदिर में 11 घी के दीपक जलाएं, पति पत्नी मिलकर शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गाय का शुद्ध घी अर्पण करें ,फिर शुद्धजल की धारा अर्पित करें तथा संतान प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें , यह प्रयोग पति पत्नी अलग अलग न करें एक साथ करें तो उत्तम होगा, 11 साबुत बेलपत्र पर  सफेद चंदन से राम राम लिखकर शिवलिंग पर अर्पण करें ,शीघ्र विवाह के लिए करें ये उपाय ,शिवरात्रि के दिन शाम 5 से 6 बजे के बीच पीले वस्त्र धारण करके शिव मंदिर जाएं ,शिवलिंग पर उतने बेलपत्र चन्दन लगाकरअर्पित करें जितनी आपकी उम्र है ,एक एक करके बेलपत्र  "नमः शिवाय" कहते हुये शिवलिंग पर उल्टा करके अर्पण करें ,वहीं पर गूगल की धूप जलाकर शिवलिंग को दिखाएं और शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें, सुखद दाम्पत्य जीवन का करें उपाय, पति पत्नी प्रदोष काल मे स्वच्छ वस्त्र पहनकर शिव मंदिर जाएं ,चांदी या स्टील के लोटे से एक साथ शिवलिंग पर कच्चा दूध अर्पित करें उसके बाद गंगाजल अर्पण करें ,अर्पण करते समय "शिव - शिव" या नमः शिवाय कहते जाएं, इसके बाद शिवलिंग पर गुलाब के 27 फूल अपने दायें हाथ से अर्पित करें ,शुद्ध गाय के घी का दीया जलाएं और गुग्गल की धूप दिखाएं ,दोनों हाथ जोड़कर सुखद वैवाहिक जीवन की प्रार्थना करें,  घर आते समय किसी जरूरतमंद महिला को फल खिलाएंवाहित स्त्रियों के पति की आयु बढ़ जाती है, महाशिवरात्रि के दिन स्नान आदि करके मां पार्वती के साथ भगवान शिव का पूजन करें। इसके बाद मां को श्रृंगार के सामान भेंट करें। ऐसा करने से विवाहित स्त्रियों के पतियों की लिए उम्र लंबी होती है।जिन व्यक्तियों की कुंडली में शनि दोष मौजूद होता है उन्हें महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव को शमी के पत्र चढ़ाने की सलाह दी जाती है। ऐसा करने से शनि ग्रह शांत होता है और कुंडली में मौजूद शनि की साढ़ेसाती शनि की ढैया या कोई भी अशुभ योग का प्रभाव कम होने लगता है।आर्थिक संकट दूर करने के लिए ,लंबे समय से परिवार में आर्थिक परेशानियां झेल रहे हैं तो ‘ऊँ शं शिवाय शं ऊँ नमः’ मंत्र का कम से कम 21 बार जाप करें. आप चाहें तो पांच, सात, 11 या 21 51 108  मालाएं भी कर सकते हैं लेकिन जाप रुद्राक्ष की माला से ही करें ,इसके अलावा बेलफल से हवन करें, वैवाहिक जीवन मेंं खुशियां लाने के लिए
अगर आपके वैवाहिक जीवन में किसी तरह की परेशानी है तो महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर जल अर्पित करें और बेल के तने पर थोड़ा-सा घी चढ़ाएं. इसके अलावा ‘ऊँ शिवाय नमः ऊँ’ मंत्र का कम से कम 51 बार जाप करें ,बेहतर जीवनसाथी के लिए अगर आपको बेहतर जीवनसाथी की तलाश है तो महाशिवरात्रि से बेहतर कोई दिन नहीं. ये दिन माता पार्वती और शिवजी के मिलन का दिन है. इस दिन माता पार्वती और महादेव दोनों की विधि विधान से पूजा करें. माता के समक्ष नारियल भेंट करें. इसके बाद ‘निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं, चिदाकाश माकाश वासं भजेऽहं’ मंत्र का 11 या 21 बार जाप करें और भगवान से बेहतर जीवनसाथी के लिए प्रार्थना करें ,विशेष कार्य सिद्धि के लिए ,अगर आप लंबे समय से किसी काम के लिए प्रयास कर रहे हैं और सफलता नहीं मिल पा रही है तो शिवरात्रि के पावन अवसर पर महादेव की विधिवत पूजा के साथ तिल से हवन करें और बेल के पेड़ का पूजन करें. ‘ऊँ शं शंकराय भवोद्भवाय शं ऊँ नमः’ मंत्र का जाप करें ,ऑफिस में बेहतर परफॉरमेंस के लिए अगर ऑफिस में मेहनत के बावजूद आपको परिणाम नहीं मिल पा रहे हैं तो आप महाशिवरात्रि के दिन बालू, राख, गोबर, गुड़ और मक्खन मिलाकर एक छोटा-सा शिवलिंग बनाएं और इसका विधि विधान से पूजन करें. इस दौरान शिव जी के इस मंत्र का जाप करें- ‘नमामिशमीशान निर्वाण रूपं, विभुं व्यापकं ब्रह्म वेद स्वरूपं’. पूजा के बाद सभी चीजों को उस दिन उसी स्थान पर रहने दें. अगले दिन नदी में प्रवाहित कर दें.शिवलिंग का 101 बार जलाभिषेक करें। साथ ही ॐ हौं जूं सः। ॐ भूर्भुवः स्वः। ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम्। उर्व्वारुकमिव बन्धानान्मृत्यो मुक्षीय मामृतात्। ॐ स्वः भुवः भूः ॐ। सः जूं हौं ॐ। मंत्र का जप करते रहें। इससे बीमारी ठीक होने में लाभ मिलता है, शिवरात्रि के दिन आटे से 11 शिवलिंग बनाएं व 11 बार इनका जलाभिषेक करें। इस उपाय से संतान प्राप्ति के योग बनते हैं।श, शिवरात्रि पर घर में पारद के शिवलिंग की स्थापना योग्य ब्राह्मण से सलाह कर स्थापना कर प्रतिदिन पूजन कर सकते हैं। इससे आमदनी बढ़ने के योग बनते हैं ,महाशिवरात्रि के दिन घर में स्फटिक का शिवलिंग लाकर स्थापित करें और नियमित इसकी पूजा करें तो घर से सारे नकारात्मक प्रभाव दूर जाएंगे। इससे धन और सुख में आने वाली बाधा दूर होगी ,वास्तुशास्त्र में स्फटिक शिवलिंग को वास्तुदोष से मुक्ति प्रदान करने वाला बताया गया है। जिस घर में यह शिवलिंग होता है उस घर में किसी प्रकार के वास्तुदोष का अशुभ प्रभाव नहीं होता है ,बुरी नजर से रक्षा करता है त्रिशूल - कहा जाता है शिव जी का त्रिशूल शांत मन प्रदान करता है और घर में त्रिशूल के रखने से परिवार को कभी किसी की नजर नहीं लगती। इसी के साथ घर में जन्मी नई संतान के को बुरी नजर से बचाने के लिए पवित्र शिवरात्रि के दिन उसके ग्ले में त्रिशूल बांध सकते हैं। कहते हैं ऐसा करने से बच्चे को किसी की बुरी नजर नहीं लगती ,डमरू से बढ़ती है एकाग्रता - डमरू को शास्त्रों में विशेष स्थान मिला है और वास्तु से लेकर ज्योतिष शास्त्र में इसे बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसी मान्यता है कि डमरु को घर में रखने से किसी भी तरह की नेगेटिव एनर्जी घर में प्रवेश नहीं करती ,नाग करेगा मुश्किलें खत्म - जीवन में आ रहीं लगातार मुश्किलें हटानी है तो महाशिवरात्रि के दिन शिव जी के मंदिर जाकर गले में नाग वाला लॉकेट पहन लें। कहते हैं इस शुभ दिन घर पर भी पूजा भी करनी चाहिए ,बेलपत्र - आप सभी जानते ही होंगे भोलेनाथ की पूजा बेलपत्र के बिना अधूरी है। ऐसे में अगर घर में शिव का मंदिर बना हुआ है तो रोजाना उन्हें बेलपत्र चढ़ाने से घर में दरिद्रता नहीं आती है और मन शांत रहता है ,कच्चा दूध - कहते हैं शिवरात्रि के दिन अपने ग्ले में रुद्राक्ष धारण किया जाना चाहिए लेकिन उससे पहले उसे एक बार कच्चे दूध के साथ जरुर धो लें, इससे आपको बड़ा लाभ होगा ,शिवरात्रि पर रात में किसी शिव मंदिर में दीपक जलाएं, शिवपुराण के अनुसार कुबेर देव ने पूर्व जन्म में रात के समय शिवलिंग के पास रोशनी की थी। इसी वजह से अगले जन्म में वे देवताओं के कोषाध्यक्ष बने ,महाशिवरात्रि पर छोटा सा पारद (पारा) शिवलिंग लेकर आएं और घर के मंदिर में इसे स्थापित करें। शिवरात्रि से शुरू करके रोज़ इसकी पूजा करें। इस उपाय से घर की दरिद्रता दूर होती है और लक्ष्मी कृपा बनी रहती है ,हनुमानजी भगववान शिव के ही अंशावतार माने गए हैं। शिवरात्रि पर हनुमान चालीस का पाठ करने से हनुमानजी और शिवजी की प्रसन्नता प्राप्त होती हैं। इनकी कृपा से भक्त की सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं ,किसी सुहागिन को सुहाग का सामान उपहार में दें। जो लोग यह उपाय करते हैं, उनके वैवाहिक जीवन की समस्याएं दूर हो सकती हैं ,सुहाग का सामान जैसे- लाल साडी, लाल चूड़ियां, कुमकुम आदि ,शिवरात्रि पर किसी बिल्व वृक्ष के नीचे खड़े होकर खीर और घी का दान करते हैं, उन्हें महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है। ऐसे लोग जीवनभर सुख-सुविधाएं प्राप्त करते हैं और कार्यों में सफल होते हैं ,महाशिवरात्रि पर किसी जरूरतमंद व्यक्ति को अनाज और धन का दान करें। शास्त्रों में बताया गया है कि गरीबों को दान करने से पुराने सभी पापो का असर खत्म हो सकता है और अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है ,जल दुध पंचामृत चढ़ाते समय शिवलिंग को हथेलियों से रगड़ना चाहिए। इस उपाय से किसी की भी किस्मत बदल सकती हैं ,जल में केसर मिलाएं और ये जल शिवलिंग पर चढ़ाएं। इस उपाय से विवाह और वैवाहिक जीवन से जुडी समस्याएं खत्म होती हैं ,यदि आप लंबी उम्र चाहते हैं तो शिवलिंग पर रोज़ दूर्वा चढ़ाएं। इससे शिवजी और गणेशजी की कृपा से सुख-समृद्धि भी बढ़ती हैं ,चावल पकाएं और उन चावलों से शिवलिंग का श्रृंगार करें। इसके बाद पूजा करें। इससे मंगलदोष शांत होते हैं ,समय-समय पर शिवजी के निमित सवा किलो या सवा पांच किलो या 11 किलो या 21 किलो गेहूं या चावल का दान करें ,शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय काले तिल मिलाएं। इस उपाय से शनि दोष और रोग दूर होते है ,बीमारियों के कारण परेशानियां खत्म ही नहीं हो रही हैं तो पानी में दूध और काले तिल मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। ये उपाय रोज़ करें ,मनचाही गाडी चाहते हैं तो शिवलिंग पर रोज़ चमेली के फूल चढ़ाएं और शिव मंत्र (ॐ नमः शिवाय) का जप 108 बार रोज़ करें।11 बिल्वपत्रों पर चंदन से ॐ नमः शिवाय या श्रीराम लिखें। इसके बाद इन पत्तों की माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं ,शिवलिंग पर रोज़ धतूरा चढाने से घर और संतान से जुडी समस्याएं दूर होती हैं। ये उपाय संतान को सभी कार्यों में सफलता दिलवाता है।नियमित रूप से आंकड़े के फूलों की माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ातेलक्ष्मी की स्थायी कृपा पाना चाहते हैं तो शिवलिंग पर रोज़ चावल चढ़ाएं। चावल पूरे यानी अखंडित होने चाहिए ,महाशिवरात्रि के दिन शिव का अभिषेक करने के बाद जलढ़री का जल घर ले आएं. इसके बाद 'ॐ नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च'। यह मंत्र को बोलते हुए पूरे घर में इस पवित्र जल का छिड़काव करें। ऐसा करने से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाएगी और घर-परिवार में खुशहाली बनी रहेगी ,अगर बराबर घर में आपसी कलह-क्लेश, रोग या अन्य समस्याएं हैं तो उसे दूर करने के लिए घर के उत्तर-पूर्व दिशा में रूद्राभिषेक करना शुभ होता है ,भले ही कोई व्यक्ति वर्ष भर में कोई व्रत नहीं रखता हो, लेकिन युगों युगों से यह मान्यता रही है कि फाल्गुन महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर महाशिवरात्री के दिन जो भी भक्त सच्चे दिल से भगवान भोलेनाथ की आराधना हेतु उपवास रखता है तो उसे मात्र महाशिवरात्रि के व्रत रखने से वर्ष भर के सभी व्रतों का फल मिल जाता है। अतः भगवान शिव पर विश्वास रखने वाला प्रत्येक व्यक्ति इस दिन उपवास कर भगवान भोलेनाथ का पूजन करता है ,इस दिन गरीबों, असहाय, दीन दुखियों को भोजन कराने वालों पर भगवान भोलेनाथ अत्यंत प्रसन्न होते हैं। माना जाता है ऐसा करने से घर में कभी भी भोजन की कमी नहीं रहती, और पितरों की भी आत्मा को सुकून मिलता है,  जल में कुछ तिल डालकर शिवलिंग का जलाभिषेक करें और मन ही मन ॐ नमः शिवाय का उच्चारण करें इससे मन को असीम शांति मिलती है ,इस दिन माना जाता है घरों में आटे के 11 शिवलिंग बनाने चाहिए और उन 11 शिवलिंगों में जलाभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने पर घर में संतान प्राप्ति के योग में वृद्धि होती है ,शिवरात्रि के मौके पर भगवान शिव के वाहन नंदी बैल को हरा चारा खिलाने से घर में सुख शांति समृद्धि आती है। अतः आप शिवरात्रि के दिन ये उपाय भी अपना सकते हैं, मान्यता है इस दिन भगवान शिव को तिल और जौ जरूर अर्पित करने चाहिए। तिल से जहां कष्टों से मुक्ति मिलती है, वही जौ से घर में सुख समृद्धि आती है, महाशिवरात्रि के मौके पर 101 बार शिवलिंग का जलाभिषेक करें। चाय के दौरान ॐ हौं जूं सः, ॐ भूर्भुवः स्वः जैसे मंत्रों का जाप करते रहें। ऐसा करने पर रोगी की बीमारी दूर होने में मदद मिलती है ,साथ ही इस दिन बिल्वपत्र यानी बेल की पत्तियों पर चंदन से ओम नमः शिवाय लिखकर भगवान शिव को अर्पित करने से भगवान बेहद प्रसन्न होते हैं। इससे आपकी मनोकामनाएं पूर्ण हो सकती हैं ,अगर काफी कोशिशों के बावजूद भी विवाह के लिए सही वर या वधु नहीं मिल रहा है। तो इस बाधा को दूर करने हेतु आप शिवलिंग दूध में केसर डालकर भगवान शिव को अर्पित कर सकते हैं। ऐसा करने से जल्दी ही विवाह के योग बनते हैं, शिवरात्रि के मौके पर मछलियों को आटे की गोलियां खिलाना भी शुभ माना जाता है, इस प्रक्रिया के दौरान आप भगवान शिव का ध्यान करते हैं तो धन की प्राप्ति होने के अवसर बढ़ते हैं ,कर्ज मुक्ति मंत्र
शिवजी के साथ देवराज इंद्र का पूजन करें ,रुद्र सूक्त का पाठ करें तिल में घी, गुरूच, चावल, शक्कर मिलाकर शाम को हवन करें ,तिल मिश्रित खीर का भोग लगाकर भक्तों में बाटें।
नमक, लोहा, तेल, उड़द, सोंठ, काली मिर्च, फल, सफेद चंदन का दान जरूर करें ,पान चढ़ाने से कर्ज से आपको मुक्ति जरूर मिलेगी ,जल में इत्र मिलाकर भगवन शिव का अभिषेक करें, केला, अनार अर्पित करें ,दही से भगवान शिव का अभिषेक करें, दही युक्त भोजन ग्रहण करें ,हो सके तो ब्राह्मण स्त्री को सुहाग सामग्री आप भेट भेंट करें,शिवरात्रि के दिन सुबह के समय भगवान शिव को दूध मिश्री मिला जल अर्पित करें ,इसकी एक धारा लगातार शिवलिंग पर चढ़ाते रहें ,उस समय नमः शिवाय या "शिव - शिव" का मन ही मन जाप करें ,शिव लिंग से स्पर्श कराके पांच-मुखी रुद्राक्ष कण्ठ में लाल धागे में धारण करें ,मिट्टी के दीए में गाय का घी भरकर उसमें कलावे की चार बाती लगाएं और उसमें कपूर रखकर जलाएं. उसके बाद भगवान शिव को जल में चावल दूध मिश्री आदि मिलाकर अर्पण करें , शिवमंदिर में ही "नमः शिवाय" का यथाशक्ति जाप करें ,शिवजी से अच्छे स्वास्थ्य तथा लम्बी आयु की प्रार्थना करे ,शिवरात्रि के दिन चांदी के लोटे द्वारा जलधारा से भगवान शिव का अभिषेक करें ,उस समय मन ही मन "नमः शिवाय" कहते जाएं ,भगवान शिव को सफेद फूल दोनों हाथों से अर्पण करते समय रोजगार प्राप्ति की प्रार्थना करें ,संध्याकाल को शिव मंदिर में 11 घी के दीपक जलाएं.
पति पत्नी मिलकर शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गाय का शुद्ध घी अर्पण करें ,फिर शुद्धजल की धारा अर्पित करें तथा संतान प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें ,यह प्रयोग पति पत्नी अलग अलग न करें एक साथ करें तो उत्तम होगा ,11 साबुत बेलपत्र पर सफेद चंदन से राम राम लिखकर शिवलिंग पर अर्पण करें.
शीघ्र विवाह के लिए करें ये उपाय ,शिवरात्रि के दिन शाम 5 से 6 बजे के बीच पीले वस्त्र धारण करके शिव मंदिर जाएं ,शिवलिंग पर उतने बेलपत्र चन्दन लगाकरअर्पित करें जितनी आपकी उम्र है, एक एक करके बेलपत्र "नमः शिवाय" कहते हुये शिवलिंग पर उल्टा करके अर्पण करें ,वहीं पर गूगल की धूप जलाकर शिवलिंग को दिखाएं और शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें ,सुखद दाम्पत्य जीवन का करें उपाय ,पति पत्नी प्रदोष काल मे स्वच्छ वस्त्र पहनकर शिव मंदिर जाएं चांदी या स्टील के लोटे से एक साथ शिवलिंग पर कच्चा दूध अर्पित करें उसके बाद गंगाजल अर्पण करें ,अर्पण करते समय "शिव - शिव" या नमः शिवाय कहते जाएं ,इसके बाद शिवलिंग पर गुलाब के 27 फूल अपने दायें हाथ से अर्पित करें ,शुद्ध गाय के घी का दीया जलाएं और गुग्गल की धूप दिखाएं ,दोनों हाथ जोड़कर सुखद वैवाहिक जीवन की प्रार्थना करें ,घर आते समय किसी जरूरतमंद महिला या बच्चियों को फल खिलाएं इसके साथ ही मित्रों शिवलिंगी और मैन फल चढाने से भी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं कुछ उपाय इसमें दो या तीन बार है जरा ध्यान रखें,और हां अभी अंतिम भाग बाकी है नादान बालक की कलम से यह भाग यही तक धन्यवाद आप सभी का जय मां बाबा की ,,
जय मां जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🌹🌹🌹🙏🌹🌹🌹

No comments:

Post a Comment

#तंत्र #मंत्र #यंत्र #tantra #mantra #Yantra
यदि आपको वेब्सायट या ब्लॉग बनवानी हो तो हमें WhatsApp 9829026579 करे, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई उसके लिए ओर ब्लाँग पर विजिट के लिए धन्यवाद, जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🙏🏻🌹

एक बात हमेशा ध्यान रखें समर्पण से ही सभी को साधा जाता है,,

आप सभी मित्रों को जय मां जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश,, #शाबरमंत्र #वैदिकमंत्र अन्य मंत्र साधनाएं मित्रों यह ब्लॉग हमने आमजन ...

DMCA.com Protection Status