Saturday, October 7, 2017

ये है असली समस्या सनातन की

ऐसो को तो जहाँ देखो जूते मारने की इच्छा करे तो जरा जोर से मारो




आजकल साधना श्रेत्र कई तांत्रिक महाप्रभु घुम रहे जो सनातन धर्म को तो बदनाम कर ही रहे है साथ मे हिन्दू संत या साधक बन के भगवा धारण करके हिन्दु संतो को भी नही छोड रहे है जिनके गुरु का पता नही गुरु पंथ का पता नही बस भोले भाले साधको या भक्तो को देवी यक्षिणी या देवी कर्णपश्चिनी या अन्य प्रेत जिन्नात की साधना मामुली या गैरमामूली पैसो मे करवाने को तैयार  है नये हारे हुये साधक जिनको गुरु वाणी या गुरु ना मिला हो या भक्त ...इस मृगलता मे या इन साधनाओ के चक्कर मे फस जाते है ये नये साधको का आकर्षण होती है की ये साधनाये फोकट मे सब कुछ देती है जब इन तांत्रिको को ये नही मालूम की इनसे नुकसान क्या ओर फायदा क्या बस लगे पडे है एसे ढोंगी तांत्रिको चक्कर पैसे दो साधना लो,,,
अरे ये सब इनकी जर खरीद गुलाम है क्या अगर ये सभी इतना सुख देती तो वो तूमसे पैसे लेकर साधना क्यू झण्ड बनाने के लिये करवा रहा है क्या अपने धर्म को आप स्वयंम बदनाम करते हो एक कहावत है कि मुर्खो पर अकलमंद राज करता है वो कहावत सही स्वयंम के दिमाग से काम लेते नही फिर नूकसान या कोई अहित हो जाये तो दोड पडते हो किसी अन्य के पास लूटवाने आप स्वयंम इनको बढावा दे रहे हो मंदिर जाने की बजाय या सही संतो की पहचान ना होने के कारण आपका भटकाव होना स्वाभविक है पर इतना भी क्या भटकाव होना जो जिसके पास जा रहे हो उससे कुछ प्रमाण तो लो की जो साधना आप हमे करवा रहे हो क्या आपने की है या नही अगर की है तो पत्यक्ष करवा दो.. क्योकि गुरु शिष्य मे कोई भेद नही होता यही सत्य है कुछ करने से पहले सोचो की आप कहाँ जा रहे हो..
जितना आध्यात्मिक को समझोगे उतना ही सरलीकरण होगा ओर जितना  साधना सिद्धि के चक्करो मे रहोगे ओर ऐसे ढोंगी दुष्ट तांत्रिक बाबा के फेर मे रहेगे या शुभ अशुभ के फेर मे रहोगे तो जटिलता बढती जायेगी भेद को मिटाये ,,,,साल छः महीन मे एक बार अपने घर ओर अपने पतिष्ठान मे हवन आहुति जप कराये कुते की गाय की रोटी रोज आपकी रसाई से निकले कबुतरो को दो मुठ्टी दाना रोज मंदिर या चबुतरे पर डाले (घर पर नही डाले क्योकि वहाँ इंसान बसते है उसको कबुतर खाना ना बनाये )व्रत उपवास करते हो या नही फिर भी किसी भुखे को भोजन भी करावे ताकि शुद्धता बनी रहे..
बाकी साधना सिद्ध आपके गुरु ओर आपके मंत्र जपो पर निर्धारित है हमारा तो यही कहना है कि आप ऐसे पाखण्डीयो के चक्करो मे ना पडे या आपका कुछ नही बिगाड़ सकते है इनको डराने के अलावा कुछ नही आता है *कल ही एक महान साधक तांत्रिक हरेश कुमार मथुरा से हम कुछ बालको की ओर नादान बालको की बात चल रही थी* की यक्षिणी प्रेत जिन्नात कर्णपश्चिनी के क्या लक्षण ओर क्या हानि है बता ही नही पाये जबकि स्वयम की कोई साधना सिद्ध नही है पर दुसरो को सिद्ध करवाने की शमता रखते है ना कोई अनुभव महज उम्र 32 साल पर बस दो साल मे नेट की दुनिया से तांत्रिक बन गये यक्षिणी कर्णपश्चिनी जिन्न प्रेत सिद्ध करवा रहे है जैसे ये सब इनके गुलाम हो .तो दोस्तो ऐसे धर्म के सिद्ध ठेकदारो से जरा बचकर रहे ये तो एक नाम है उदाहरण के लिये बाकी ऐसे कई खुजलीवाले कुते घुम रहे है बजार मे जिनके गुरु पंथ स्थान का पता नही है आप सभी सावधान रहये सेचत रहये हमारा तो यही कहना है आस पास सभी को सेचते करे पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर करे बुरी लगी हो तो माफ करे बाकी नजरअंदाज करे आज बस इतना ही नादान बालक की कलम से सोमवार से कुछ मंत्र देगे जो आपकी निजी जिंदगी मे बहुत काम आयेगे बस.......

जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश
🌹🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🌹

No comments:

Post a Comment

#तंत्र #मंत्र #यंत्र #tantra #mantra #Yantra
यदि आपको वेब्सायट या ब्लॉग बनवानी हो तो हमें WhatsApp 9829026579 करे, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई उसके लिए ओर ब्लाँग पर विजिट के लिए धन्यवाद, जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🙏🏻🌹

नवरात्रि मे कब से है ओर क्या करे नवरात्रि मे

मित्रो 25 मार्च से यानी चैत्र नवरात्रि के दिन से हिंदी का नव वर्ष शुरू होने जा रहा है हिंदू यानि सत्य सनातन धर्म नववर्ष के पहले दिन को नव स...

DMCA.com Protection Status