Tuesday, September 26, 2017

क्या जपे क्या ना जपे



आजकल सब आध्यात्मिक मे अपने हिसाब से चल रहे है कोई कहता की ये मत जपो कोई कहता की इसको मत जपो इससे हानि है हालाकि कई बीज मंत्र है जिनको बिना गुरु की सहायता या आग्या के बिना नही जपा जाता ..
अगर हिन्दू शास्त्रो मे आदिकाल से फेर बदल नही होता तो हिन्दु शास्त्रो के मुकाबले कोई शास्त्र नही थे ओर उनके मंत्र ओर तंत्र अपनी ऊर्जो एक बार जपने से ही बता देते पहले सभी हिन्दु जातियो ने अपने आपको बडा बताने के लिए फेर बदल किये जिसमे कई शेष्ठ ओर पुजनीये शामिल है फिर मुगलो ने फेर बदल कर दिये फिर अंग्रेजो ने फिर आज कल गीता प्रेस भी कर रही है जिनका हमे पुणे विश्वास है वो भी कुछ कुल को लेकर चल रही है जब तक हिन्दु सनातन धर्म मे छुआ छुत या जाति पाति का भेद रहेगा तब तक ना सनातन एक हो पायेगा ना ही एक होगा ओर गीता प्रेस के ही पुरानी पुस्तकों ने जैसे नारद पुराण मे छेडछाड की गयी है तीन अध्याय को उसमे से हटा दिया गया है ये उस तरह है की किसी एक कुल को ऊपर किया गया दुसरे कुल के नीचा दिखाया गया... हमे पुणे विश्वास है कि जो बडे बडे धर्म के ठेकेदार है जिनको ऊंची ऊची पदवी मिली हुयी है जब तक वो नही सुधरेगे जब तक सनातन को नीचा देखना ही होगा हर गुरु अपने शिष्य को भगवान मे भेद करना नही सिखाता पर यहाँ धर्म के ठेकेदार जो अपने धर्म का मजाक बनाते है कभी कभी लगता है वो सनातनी है ही नही,

जैसे अभी कुछ दिनो पहले जिनको योग गुरु कहाँ जाता है रामदेव जी.. जिन्होंने बाबा शनिमहाराज का अपमान किया था ओर वहाँ हिन्दु सभा मजोद गणमान्यो मे कोई कुछ नही बोला अभी एक हिन्दु प्रोफेसर ने माँ दुर्गा के बार मे कुछ टिप्पणी की थी तो भी हिन्दु मोन क्यू कोई बोलना नही चाहते ये समझ के बाहर है खैर जिनका अच्छा वक्त आता है उनका आप ओर हम कुछ नही कर सकते ,,बात मंत्रो की हो रही थी अरे मंत्रो वो जपो जो आपका गुरु आपको दे उसमे फेर बदल की क्या अवश्यकता है गुरु जो भी मंत्र दे उसको जपो वो दोष रहित होता है पर आजकल लोग वैसे भी भोले बाबा जो जगत पिता है उनको गुरु मानकर मंत्र जप करते है जैसे भोले बाबा उनको दीक्षित करने आये थे फिर कही गलत हो जाते है तो दोडते रहते है एक पिता अच्छा दोस्त गुरु हो सकते है भौतिक जगत के लिए पर आध्यात्मिक मे आपको भौतिक गुरु खोजना ही पडेगा यह भी अटल सत्य है... आज उसके पास कल उसके पास योग्य गुरु देखो ओर साधना चाहे ग्रहस्थ हो बह्मचारी या हो साधु की पर अपनी जिम्मेदारी से भागना संभव नही जो एक जिम्मेदारी को छोड़कर जाता है वो कही सफल नही होता यही सत्य है भजन के साथ भोजन भी चाहिए होता है तो कर्म के साथ अपने धर्म के प्रति अडिग रहे हमारा तो यही कहना है आज बस इतना ही नादान बालक की कलम से अच्छा लगे तो शेयर करे बुरा लगा हो तो नंजरअदाज करे कुछ गलत लगा हो तो माफी..

जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश
🙏🏻🌹🌹🌹🌹🌹🙏🏻

No comments:

Post a Comment

#तंत्र #मंत्र #यंत्र #tantra #mantra #Yantra
यदि आपको वेब्सायट या ब्लॉग बनवानी हो तो हमें WhatsApp 9829026579 करे, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई उसके लिए ओर ब्लाँग पर विजिट के लिए धन्यवाद, जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश 🙏🏻🌹

नवरात्रि मे कब से है ओर क्या करे नवरात्रि मे

मित्रो 25 मार्च से यानी चैत्र नवरात्रि के दिन से हिंदी का नव वर्ष शुरू होने जा रहा है हिंदू यानि सत्य सनातन धर्म नववर्ष के पहले दिन को नव स...

DMCA.com Protection Status